Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Apr 24, 2022 · 1 min read

एक दिन यह समझ आना है।

लो ये हमारा अहद नामा है,,,
नाम तुम्हारे हमारा सारा ही खज़ाना है।।

देखते हैं अब तुम कैसे जीते हो,,,
लोगों को और खुद को कितना खुश रखते हो।।

यूं बड़ा कहते थे गरीब हूं किस्मत ने तुम्हें मारा है,,,
तुम्हारे हिसाब से अब तुम्हें मिल गया खज़ाना है।।

देखो अब अश्क ना आए कभी तुम्हारी नज़रों में,,,
अब तुमको हंस कर बस जिन्दगी को बिताना है।।

दौलत से चीजे तो मिल जाती है पर रूहानियत नहीं मिलती है,,,
हमको पता है पर तुमको भी एक दिन यह समझ आना है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

74 Views
You may also like:
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
शिव शम्भु
Anamika Singh
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ढह गया …
Rekha Drolia
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आदर्श पिता
Sahil
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
Loading...