Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

एक दिन देखना तुम

एक दिन देखना तुम, एक दिन ऐसा होगा।
ख्वाब सच होगा मेरा,नाम मेरा भी होगा।।
एक दिन देखना तुम————————।।

मेरी खिल्ली उड़ा लो,कर लो मेरी मजाक तुम।
जीभर मेरी बुराई करो,लेकिन बात सुन लो तुम।।
होगा तुमको ताजुब्ब उस दिन, नूर मेरा यहाँ होगा।
एक दिन देखना तुम————————।।

किसी से कभी भी वक़्त, वफ़ाई नहीं रखता है।
तुमसे वफ़ा नहीं दौलत, किसपे अहम करता है।।
झुकेगा तेरा सिर मुझको, ताज मेरे सिर भी होगा।
एक दिन देखना तुम——————————।।

मैं ही नहीं हूँ यहाँ पापी, रब को लूटा है सभी ने।
मुझसे ही क्यों नफरत है, बेचा है ईमान सभी ने।।
मनहूस मुझको कह लो, रोशन सितारा मेरा होगा।
एक दिन देखना तुम————————–।।

हर दौर से गुजरा हूँ , जिंदगी से नहीं हूँ निराश।
दम है मुझमें अभी भी, वही हिम्मत वही जोश।।
सक्षम हूँ मैं भी इतना, स्वर्णिम इतिहास मेरा होगा।
एक दिन देखना तुम———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई अपना नहीं है
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
प्यारे गुलनार लाये है
प्यारे गुलनार लाये है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
Neelam Sharma
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
रजा में राजी गर
रजा में राजी गर
Satish Srijan
” READING IS ESSENTIAL FOR KNOWLEDGE “
” READING IS ESSENTIAL FOR KNOWLEDGE “
DrLakshman Jha Parimal
दास्तां-ए-दर्द
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
भूल जा - डी के निवातिया
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
*तितली रानी  (बाल कविता)*
*तितली रानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ये दुनिया बाजार है"
Dr. Kishan tandon kranti
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
■ भारत और पाकिस्तान
■ भारत और पाकिस्तान
*Author प्रणय प्रभात*
✍️अलहदा✍️
✍️अलहदा✍️
'अशांत' शेखर
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
कोई बात भी नहीं है।
कोई बात भी नहीं है।
Taj Mohammad
💐Prodigy Love-17💐
💐Prodigy Love-17💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसने सोचा था कि
किसने सोचा था कि
Shekhar Chandra Mitra
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
Loading...