Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 10, 2021 · 1 min read

एक थे वशिष्ठ

यह कविता हमारे भारत के बिहार राज्य के एक महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण जी को समर्पित है।

एक थे वशिष्ठ
वो थे ही विशिष्ट
पूरी दुनिया मे नाम कमाया
पूरा गणित उन्ही में समाया
वो थे इंडिया के ईष्ट
एक थे वशिष्ठ
वो थे ही विशिष्ट।

जात पात न उनको आता
अगर अमेरिका उनको न ले जाता
तो नासा का नाम डुबाता
वे थे इंडिया के ईष्ट
एक थे वशिष्ठ
वो थे ही विशिष्ट।

सरकार दे न पाई उनको उनका मंच
अमेरिका कसता रहा तंज
नासा को ज्ञान बताया
गणना का सिद्धान्त बताया
वो थे इंडिया के ईष्ट
एक थे वशिष्ठ
वो थे ही विशिष्ट।

2 Likes · 379 Views
You may also like:
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
धन्य है पिता
Anil Kumar
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बचपन की यादें।
Anamika Singh
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
चार बूँदे...
"अशांत" शेखर
पिता
Raju Gajbhiye
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
मांडवी
Madhu Sethi
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
समय ।
Kanchan sarda Malu
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
तपिश
SEEMA SHARMA
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
छोड़कर ना जाना कभी।
Taj Mohammad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
बदलती परम्परा
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
Loading...