Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Feb 19, 2022 · 1 min read

एक तस्वीर तुम्हारी

तुम्हारी एक तस्वीर ,
भेजी गई मुझको,
देखने के लिए रूपरेखा,
पसंद-न-पसंद का निर्णय करना,
कुछ सवालों का जवाब भी देना,
और देख मैं निहारता रहा,
स्तब्ध एहसास करता रहा,
क्या कहूंँ मैं अब,
सुंदर और गोरी काया को,
तस्वीर बस निहारता रहा,
कि एक पल में बोल उठी तुम,
मुझे नहीं पसंद हो आप,
हमें यूँ ही ना गौर से देखो,
हृदय हमारा धड़क रहा,
मीठी-मीठी बातें नहीं हुई तुमसे,
एक कप चाय नहीं पी हमसे ,
दूर से ही देखते रहेंगे मौन होकर ,
या गौर फरमाएंगे ,
मेरी अच्छाईयों पर भी ,
सुशील गुणवती भी हूँ,
आज के दौर की नारी हूँ,
सिर्फ सिंगार नहीं सजती,
घर परिवार और समाज में सहयोग करती हूँ,
विभिन्न क्षेत्रों में सम्मान भी पाती ,
आप की भांँति मैं भी संतान हूँ,
कमियांँ तो इंसान में होती है ,
कुछ आप में हैं कुछ मुझमें भी ,
बात हृदय को समझने की है ,
ना कि माप-तौल करने की,
सहज प्रेम भाव से रिश्ता जोड़ने की है ,
पढ़ी लिखी शिक्षित नारी हूँ,
किसी का अधिकार नहीं है मुझमें ,
जीवन में भागीदारी समान है ,
अब ‘ हांँ ‘ कह दो ,
समझ आती हूंँ तो ,
अन्यथा बाद में मत कहना ,
रिश्ते की डोर जीवन भर का होता है ,
पसंद करना है तो हृदय को देखो ,
यूंँ ही तस्वीर को मत घूरो..।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर ।

3 Likes · 2 Comments · 216 Views
You may also like:
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
सुन्दर घर
Buddha Prakash
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
माँ की याद
Meenakshi Nagar
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...