Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

एक ख़्वाब।

एक ख़्वाब नज़रों में पल रहा है।
धड़कन से नादां दिल भी मचल रहा है।।

ग़रीब का सबकुछ बदल रहा है।
देखो तो कीचड़ में कमल खिल रहा है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 72 Views
You may also like:
दुनिया
Rashmi Sanjay
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
कलम
Dr Meenu Poonia
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
यादें
Sidhant Sharma
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
हमारा दिल।
Taj Mohammad
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुधार लूँगा।
Vijaykumar Gundal
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr. Alpa H. Amin
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
O brave soldiers.
Taj Mohammad
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
मातम और सोग है...!
"अशांत" शेखर
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
Loading...