Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 26, 2017 · 1 min read

एक किताब लिखूं

सोचा एक किताब लिखूं।
उसमें तेरा जिक्र लिखूं।
सुबह से शाम हुई।
सोचते हुए रात भी बीती ।
क्या लिखूं समझ न आया।
तू तस्वीर है या मेरा साया।
सांसों में बसा लिखूं।
या धड़कनों में समाया।
कश्मकश थी अजीब।
प्रतीक्षा की घड़ी भी करीब।
धड़कनें धड़क रही थी।
नाम से तेरे।
सांसें भी चल रही थी।
आस में बस तेरी।
रोमछिद्रों में तेरा वास।
तुझ बिन न लूँ मैं स्वास।
हार गयी,थक कर चूर हुई।
आदि मिला न अंत तेरा।
तन-मन की बात नहीं।
तू तो बसा है आत्मा में।
मिश्री की तरह।
समाया है लहू में।
सुर्ख रंग की तरह।
कैसे अलग तू और मैं।
मेरे प्रीतम अब तू ही बता।
जीवन की अनन्त गहराइयों में।
तेरा ही अक्स, तेरा ही साया।
अब कैसे मैं तेरा जिक्र करूँ।
कैसे मैं कोई ग्रन्थ लिखूं।
सोचा फिर एक किताब लिखूं।।

आरती लोहनी

243 Views
You may also like:
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
आस
लक्ष्मी सिंह
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...