Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2020 · 1 min read

एक आवाज़ पर्यावरण की

मुझ पर एक अहसान जताओ
मुझ पर तुम कोई जुर्म न ढ़हाओ
मेरे इस अस्तित्व को
कृपया कर तुम ही बचाओ।
मै नहीं तो तुम भी नहीं
अपने लिए तो मुझे बचाओ।
मेरे इन हाथों पर
अपना दम मत दिखाओ।
जब-जब मुझे गुस्सा दिलाओगे
बाद में तुम पछताओगे।
मैं था पहले कितना सुंदर
तुमने मुझे मिटा दिया।
तुमनें ऐसा क्यों किया?
अपने लिए मुझे उजाड़ दिया
आखिरी गुज़ारिश करता हूँ –
कृपया करके मुझे बचाओ।

– श्रीयांश गुप्ता

1 Like · 2 Comments · 192 Views
You may also like:
✍️मेरे हाथों में सिर्फ लकीऱे है✍️
"अशांत" शेखर
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
हमारा दिल।
Taj Mohammad
किताब।
Amber Srivastava
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
मील का पत्थर
Anamika Singh
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
तरबूज का हाल
श्री रमण
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक्त और दिन
DESH RAJ
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️याद✍️✍️
"अशांत" शेखर
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
न्याय
Vijaykumar Gundal
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
Loading...