Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

एक आदमी का दर्द (हम हिंदुस्तानी,..)

ये दिल बेचारा बेइंतेहा दर्द सहता है ,
यह ज़हन अनेकों फिक्रों में लगा रहता है ।

घर पर रहे तो घरवालों से खट पट ,
तो कभी उनकी शिक्षा/सेहद की सोचता है ।

दफ्तर पर रहे तो बॉस से तनातनी ,
और सहकर्मियों के कुटिल व्यवहार सहता है।

दोस्तों के बीच रहे तो उनके उलाहने और ,
उनको सुखी देख निज कमी का दुख सालता है।

बाज़ार में राशन या हाट में सब्जी लेने जाए,
राशन और सब्जियों के भाव सुनकर सकपकाता है।

और कभी दिल बहलाने को देखना चाहे टीवी तो ,
पत्रकारों / नेताओं की परस्पर तर्रार से सरदर्द होता है।

खबरें सुन अपराधों ,आपदाएं और महामारी के प्रकोप की ,
दिल बेचारा दहशत से कांप उठता है ।

सरकार को क्या पता आम आदमी कैसे जीता है?
चुनाव के मौसम में क्यों वो तिलमिलाता है ।

कभी कभी जब सोचता है जीवन के विषय में,
वो उसे तनाव और फिक्र का प्रायवाची लगता है ।

आशा और निराशा के बीच तमन्नाओं को साथ लेकर ,
वो अपना जीवन इसी तरह गुजारता है।

2 Likes · 4 Comments · 420 Views
You may also like:
सुन री पवन।
Taj Mohammad
R
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जीवन
vikash Kumar Nidan
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
कितनी इस दर्द ने
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
मन का पाखी…
Rekha Drolia
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
मित्र
Vijaykumar Gundal
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
नई तकदीर
मनोज कर्ण
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
✍️ये भी अज़ीब है✍️
"अशांत" शेखर
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
जम्हूरियत
बिमल
Loading...