Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2022 · 2 min read

एक असमंजस प्रेम…

एक असमंजस प्रेम..

हम अक्सर कई लोगो से बात करते हैं
जिनमें से कुछ लोंगो से हमें बाते करना अच्छा लगता हैं
कभी – कभी हमारे विचार कुछ लोंगो से मिलने लगते हैं तो
कभी किसी की शैतानियाँ, नादानियाँ हमको प्यारी हो जाती हैं..

धीरे – धीरे हमें उनकी आदत सी हो जाती हैं
फिर ना चाहकर भी हम उनसे बातें करने का एक मौका नहीं छोड़ते..

हर बार हम जिनसे बातें करते हैं उनमें फ्लर्टिंग नहीं होता
और ना ही हर किसीसे हमें प्रेम होता हैं
बस उनसे कुछ अपनापन हो जाता हैं
और फिर कभी – कभी तो लोंगो को हम
भाई – बहन, चाचा – मामा, भाभी जैसे रिश्तों के नामों में बाँधकर
अपने साथ उम्र भर रख लेने की चेष्टा करते हैं..

फिर कभी एक ऐसा शक्स भी हमें मिल जाता हैं
जिस से हमें घंटो बाते करने पर भी उबन महसूस नहीं होती
लगने लगता हैं कि जिस इंसान की तलाश थी
वो आखिर हमें मिल ही गया..

फिर प्रेम की एक ड़ोर होती हैं
जिसके दोंनो तरफ
दो जीव अपने आज से ज्यादा आने वाले कल के लिए जिते हैं..

कभी कोई शक्स ऐसा भी मिल जाता हैं
जिस से मिलने पर समाज को आपत्ति होती हैं
कभी उस शक्स की उम्र, कभी बैंक बैसेंस, कभी जाति
हमसे बहुत ही अलग होती है..

जिसके लिए हमें ना चाहकर भी दूरी बना लेनी पड़ती हैं
जब दूर होते हैं
तब अक्सर यहीं सोचते हैं के
वो कैसा होगा
कहाँ होगा
हमें याद तो करता होगा ना..

लेकिन वहाँ से कोई जवाब नहीं आता
और ना ही हम अपनी बैचेनी उसे समझा सकते हैं..

धीरे – धीरे हम चुप हो जाते हैं
फिर हमारी यहीं चुपी खामोशी बनकर
हमें सबसे अलग तनहा कर जाते हैं..

अब हमारे पास बस दो ही अॉप्शन होते हैं
या तो हम उसे भुल जाए
या फिर
उसे याद करते रह जाए
और इंसान की अक्सर फितरत ही होती हैं के
वो हमेशा दुसरा अॉप्शन ही चुनता हैं..

फिर क्या
बेवफा का लेबल उसके माथे टैग कर के
हम अपना नया रोना लगते हैं
लोगों से अच्छी सिंपथी मिल ही जाती हैं
और कुछ हमसे भी ज्यादा लेबलबाज होते है
वो आकर ऐसी बाते करते हैं यहां नुकसान हमारा नहीं
उससे दस गुना उनका हुआ हैं..

इन सब चक्करों में
दिल के दिल में ड़रके मारे दुबक कर बैठा प्रेम
इतना अपाहीज हो जाता है के
उसे अब बैसाकी भी बोझ लगने लगती हैं..

हर किसी के आहट से भी काँप जाता हैं
मन के किवाड़ से ऐसे झाँकने लगता है
जैसे कोई छोटा सा बच्चा अपनी माँ के आँचल के
पिछे छिपकर किसी अपरिचय व्यक्ति को देख
दुबक – सा जाता हैं..

कुछ कहने के लिए शब्द ही नहीं होते हैं अब उसके पास
क्यूकि,

सुलझा सुलझा सा जो रहता था कभी
अब असमंजस सा हो जाता है प्रेम…
#ks

1 Like · 1 Comment · 84 Views
You may also like:
✍️वो मेरी तलाश में…✍️
'अशांत' शेखर
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️कैद ✍️
Vaishnavi Gupta
नवगीत
Sushila Joshi
होली
AMRESH KUMAR VERMA
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️जिंदगी के सैलाब ✍️
'अशांत' शेखर
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
मैं हो गई पराई.....
Dr.Alpa Amin
पहली भारतीय महिला जासूस सरस्वती राजमणि जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
ढूंढना दिल उसी को
Dr fauzia Naseem shad
जाम से नही,आंखो से पिला दो
Ram Krishan Rastogi
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
घर की रानी
Kanchan Khanna
ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
नाम
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी तो तुम मिलने आया करो
Ram Krishan Rastogi
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
Loading...