Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2022 · 2 min read

एक असमंजस प्रेम…

एक असमंजस प्रेम..

हम अक्सर कई लोगो से बात करते हैं
जिनमें से कुछ लोंगो से हमें बाते करना अच्छा लगता हैं
कभी – कभी हमारे विचार कुछ लोंगो से मिलने लगते हैं तो
कभी किसी की शैतानियाँ, नादानियाँ हमको प्यारी हो जाती हैं..

धीरे – धीरे हमें उनकी आदत सी हो जाती हैं
फिर ना चाहकर भी हम उनसे बातें करने का एक मौका नहीं छोड़ते..

हर बार हम जिनसे बातें करते हैं उनमें फ्लर्टिंग नहीं होता
और ना ही हर किसीसे हमें प्रेम होता हैं
बस उनसे कुछ अपनापन हो जाता हैं
और फिर कभी – कभी तो लोंगो को हम
भाई – बहन, चाचा – मामा, भाभी जैसे रिश्तों के नामों में बाँधकर
अपने साथ उम्र भर रख लेने की चेष्टा करते हैं..

फिर कभी एक ऐसा शक्स भी हमें मिल जाता हैं
जिस से हमें घंटो बाते करने पर भी उबन महसूस नहीं होती
लगने लगता हैं कि जिस इंसान की तलाश थी
वो आखिर हमें मिल ही गया..

फिर प्रेम की एक ड़ोर होती हैं
जिसके दोंनो तरफ
दो जीव अपने आज से ज्यादा आने वाले कल के लिए जिते हैं..

कभी कोई शक्स ऐसा भी मिल जाता हैं
जिस से मिलने पर समाज को आपत्ति होती हैं
कभी उस शक्स की उम्र, कभी बैंक बैसेंस, कभी जाति
हमसे बहुत ही अलग होती है..

जिसके लिए हमें ना चाहकर भी दूरी बना लेनी पड़ती हैं
जब दूर होते हैं
तब अक्सर यहीं सोचते हैं के
वो कैसा होगा
कहाँ होगा
हमें याद तो करता होगा ना..

लेकिन वहाँ से कोई जवाब नहीं आता
और ना ही हम अपनी बैचेनी उसे समझा सकते हैं..

धीरे – धीरे हम चुप हो जाते हैं
फिर हमारी यहीं चुपी खामोशी बनकर
हमें सबसे अलग तनहा कर जाते हैं..

अब हमारे पास बस दो ही अॉप्शन होते हैं
या तो हम उसे भुल जाए
या फिर
उसे याद करते रह जाए
और इंसान की अक्सर फितरत ही होती हैं के
वो हमेशा दुसरा अॉप्शन ही चुनता हैं..

फिर क्या
बेवफा का लेबल उसके माथे टैग कर के
हम अपना नया रोना लगते हैं
लोगों से अच्छी सिंपथी मिल ही जाती हैं
और कुछ हमसे भी ज्यादा लेबलबाज होते है
वो आकर ऐसी बाते करते हैं यहां नुकसान हमारा नहीं
उससे दस गुना उनका हुआ हैं..

इन सब चक्करों में
दिल के दिल में ड़रके मारे दुबक कर बैठा प्रेम
इतना अपाहीज हो जाता है के
उसे अब बैसाकी भी बोझ लगने लगती हैं..

हर किसी के आहट से भी काँप जाता हैं
मन के किवाड़ से ऐसे झाँकने लगता है
जैसे कोई छोटा सा बच्चा अपनी माँ के आँचल के
पिछे छिपकर किसी अपरिचय व्यक्ति को देख
दुबक – सा जाता हैं..

कुछ कहने के लिए शब्द ही नहीं होते हैं अब उसके पास
क्यूकि,

सुलझा सुलझा सा जो रहता था कभी
अब असमंजस सा हो जाता है प्रेम…
#ks

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 1 Comment · 123 Views
You may also like:
*मोबाइल उपहार( बाल कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
माँ
Prakash juyal 'मुकेश'
*दूरंदेशी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
जीवन
vikash Kumar Nidan
कहानियां
Alok Saxena
हमारी धरती
Anamika Singh
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
गजल
जगदीश शर्मा सहज
✍️एक सुबह और एक शाम
'अशांत' शेखर
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
Prabhudayal Raniwal
भ्रष्ट राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
★सफर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
'नज़रिया'
Godambari Negi
कदम
Arti Sen
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
धार छंद
Pakhi Jain
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
तेरे बिना सूनी लगती राहें
जगदीश लववंशी
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
तेरा हर लाल सरदार बने
Ashish Kumar
Loading...