Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

एकादश दोहे:

सिर्फ मलाई मारकर, जन्नत की हो सैर.
दूध सभी को चाहिये, गायों से है बैर..

गायें भूखी घूमतीं, संकट में है जान.
चारा भूसा गाय का, खा जाते इंसान..

कम्बाइन काटे फसल, भूसा पूछे कौन.
नरवाई देते जला, समझा दें क्यों मौन??

नरवाई को मत जला, सूक्ष्म जीव हों नष्ट.
उसका भूसा लें बना, त्वरित दूर हों कष्ट..

गीले रहते हैं सदा, नहर नदी तटबंध.
बीज घास के बोइये, यही उचित अनुबंध..

गोबर ईंधन खाद के, अपनायें नव सूत्र.
दूर करे मधुमेह तक, रामबाण गोमूत्र..

नित्य कटें चोरी छिपे, देखे मौन समाज.
सबकी आँखों में चुभें, देशी गायें आज..

रोग कैंसर का जनक, हो सकता गोमांस,
इसका सेवन जो करे, घिसटे कर ब्रेकडांस.

पालीथिन क्यों बिक रही? किससे क्या संबंध?
जनता का ही दोष सब? कहाँ गए प्रतिबन्ध??

सत्ता की मदिरा पिए, सोता है परमार्थ.
होता है तुष्टीकरण, यदि वोटों का स्वार्थ..

आज कठिन है मान्यवर, गोसेवा का काम.
गोरक्षक की भर्त्सना, करिये होगा नाम..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
Tag: दोहा
193 Views
You may also like:
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
✍️हार और जित✍️
'अशांत' शेखर
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
Mohd Talib
Mohd Talib
वक्त लगता है
Deepak Baweja
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
आओ प्यार कर लें
Shekhar Chandra Mitra
जीवन मे एक दिन
N.ksahu0007@writer
मुस्कान हुई मौन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
स्थानांतरण
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
यशोदा का नंदलाल बांसूरी वाला
VINOD KUMAR CHAUHAN
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
*"* वतन पर जां फ़िदा करना *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बचपन
मनोज कर्ण
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
सफ़रनामा
Gautam Sagar
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नसीब
DESH RAJ
मेरी क्यारी फूल भरी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
Aditya Raj
वक्त की कीमत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...