Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 22, 2016 · 1 min read

एकाकीपन

एकाकी पन …….

आजकल एक चिडियॉ मुंडेर पर चहकती है
कभी ऑगन मे कभी बरंडे पर फुदकती है

गौर से देखा तो गाभिन पछी थी
तिनका तिनका जोड कर नीड रजती थी

बिन नर पछी के स्वयं कितनी सछम थी
स्वयं सेवी एवं संवयं संगठित थी

कुछ ही दिनो मे अंडो को सेते देखा
फिर नन्हे पंरिंदो के साथ चहकते देखा

आज चिडिया परिंदो के साथ उडान भर रही थी
उनके पंखो को परवाज दे रही थी

परिंदो ने भी अपना मकाम चुन लिया था
अपना आसमान अपना आयाम चुन लिया था

आज फिर चिडिया को नीड के पास देखा
अजब नीरवता का एहसास देखा

कुछ ……बहुत कुछ अपने सा जुडाव देखा
परिंदो के जाने क् बाद ……

क्या ! ये भी नीरवता का दर्द सहती है ?
मेरी तरह क्या ये भी एकाकी पन का दर्द सहती है

नीरा रानी
…………………
गाभिन ..,pregnant
नीड …nest
परवाज…lnspire
आयाम ..destination
नीरवता ..loneliness

432 Views
You may also like:
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
इश्क।
Taj Mohammad
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
टूटे बहुत है हम
D.k Math
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
इज्जत
Rj Anand Prajapati
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रार्थना
Anamika Singh
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...