Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

उस लम्हा

उस लम्हा काश हम थोड़ा ठहर गए होते,
जब तेरे दिल में उतर जाना चाहते थे।
**
हमने इतने इत्मीनान से उन्हें खो दिया,
जितने होश से वो हमे पाना चाहते थे।
**
हमें याद नही आई तुम्हारी,
तुम भी हमे भुलाना चाहते थे।
**
ठुकराए जाने के बावजूद,
तेरे ही दर पर आना चाहते थे।
**
अँधेरा था बहुत मेरी जिंदगी में,
तेरे दिल में कोई जोत जालना चाहते थे।

171 Views
You may also like:
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता
Ray's Gupta
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
लोभ
AMRESH KUMAR VERMA
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
मत करना
dks.lhp
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे ईश्वर!
Anamika Singh
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr. Alpa H. Amin
Loading...