Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 6, 2022 · 1 min read

उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी

उसने कोई बात समझाई ना थी
अक़्ल मुझको इस लिए आई ना थी

फासला तो कर दिया हालात ने
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी

नकहतें क्यों हैं फज़ा में इस क़दर
आपने जब ज़ुल्फ लहराई ना थी

दिल बहुत बेचैन था बेताब था
याद-ए-जानाँ जब तलक आई ना थी

आशिक़ी के इब्तिदाई दौर में
क्या तुम्हें मुश्किल कोई आई ना थी

मेरे दिल को डस रही थी तीरगी
जब किसी की जलवा आराई ना थी

एक दीवाना बड़ा होशियार था
जब तलक ज़ंजीर पहनाई ना थी

मर्तबा ‘ख़ालिद’ को जितना मिल गया
फ़िक्र में इतनी तवानाई ना थी

~ Khalid Nadeem Budauni

103 Views
You may also like:
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️तंगदिली✍️
"अशांत" शेखर
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
✍️मुतअस्सिर✍️
"अशांत" शेखर
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
नूर
Alok Saxena
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
खेत
Buddha Prakash
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
Loading...