Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी

उसने कोई बात समझाई ना थी
अक़्ल मुझको इस लिए आई ना थी

फासला तो कर दिया हालात ने
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी

नकहतें क्यों हैं फज़ा में इस क़दर
आपने जब ज़ुल्फ लहराई ना थी

दिल बहुत बेचैन था बेताब था
याद-ए-जानाँ जब तलक आई ना थी

आशिक़ी के इब्तिदाई दौर में
क्या तुम्हें मुश्किल कोई आई ना थी

मेरे दिल को डस रही थी तीरगी
जब किसी की जलवा आराई ना थी

एक दीवाना बड़ा होशियार था
जब तलक ज़ंजीर पहनाई ना थी

मर्तबा ‘ख़ालिद’ को जितना मिल गया
फ़िक्र में इतनी तवानाई ना थी

~ Khalid Nadeem Budauni

1 Like · 237 Views
You may also like:
हमको किस के सहारे छोड़ गए।
Taj Mohammad
वो पत्थर
shabina. Naaz
एक अगर तुम मुझको
gurudeenverma198
तुमको भूल ना पाएंगे
Alok Saxena
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
Anis Shah
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️ज्वालामुखी✍️
'अशांत' शेखर
जीवन से जैसे कोई
Dr fauzia Naseem shad
आखिर किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
🌺🦋सजल हैं नयन, दिल भर गया है🦋🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
श्री रामप्रकाश सर्राफ
Ravi Prakash
■ सामयिक / ज्वलंत प्रश्न
*Author प्रणय प्रभात*
"घास वाला टिब्बा"
Dr Meenu Poonia
शिवराज आनंद/Shivraj Anand
Shivraj Anand
गुरु वंदना
सोनी सिंह
दुःख के संसार में
Buddha Prakash
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
भारत के वर्तमान हालात
कवि दीपक बवेजा
RV Singh
Mohd Talib
बंधुआ लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तब मैं कविता लिखता हूँ
Satish Srijan
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
“SAUDI ARABIA HAS TWO SETS OF TEETH-ONE TO SHOW OFF...
DrLakshman Jha Parimal
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...