Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,

उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
साथ में जो गुजरी वो कहानी याद है,
न कॉल उधर से आता है न मै करता हूं,
पर वो एक नंबर मुज़बानी याद है.!!!

-Vishal ❤️

119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जयचंदों" को पालने वाले
*Author प्रणय प्रभात*
हकीकत से रूबरू
हकीकत से रूबरू
कवि दीपक बवेजा
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लकीरी की फ़कीरी
लकीरी की फ़कीरी
Satish Srijan
गजलकार रघुनंदन किशोर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
वक्त।
वक्त।
Taj Mohammad
# नशा मुक्ति अभियान......
# नशा मुक्ति अभियान......
Chinta netam " मन "
*!*
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दर्द के रिश्ते
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"इस जगत में"
Dr. Kishan tandon kranti
निगाहें
निगाहें
जय लगन कुमार हैप्पी
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
कोई फाक़ो से मर गया होगा
कोई फाक़ो से मर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
औरत
औरत
Rekha Drolia
".... कौन है "
Aarti sirsat
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
श्री राम ने
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'हकीकत'
'हकीकत'
Godambari Negi
किस्तों में खुदकुशी
किस्तों में खुदकुशी
Shekhar Chandra Mitra
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दो पँक्ति दिल की
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
Loading...