Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 9, 2022 · 1 min read

उलझन

प्यार के आज हर शब्द
अपने में ही उलझ गए है
हर राग प्यार के आज
खुद अटके हुए पड़े है
होठों पर आने से पहले
प्यार के सुर भटक रहे है
कैसे गीत गाए
अनामिका प्यार की
जब आज हर दिल में
नफरत पल रहे है
जब प्यार के हर सुर ही मेरे
इस उलझन में घिरे है।

~अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 78 Views
You may also like:
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
अधूरापन
Harshvardhan "आवारा"
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
इन्साफ
Alok Saxena
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
भारत
Vijaykumar Gundal
तेरी जान।
Taj Mohammad
मैं रात-दिन
Dr fauzia Naseem shad
✍️इंतजार में सावन की घड़ियां✍️
"अशांत" शेखर
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
उसको बता दो।
Taj Mohammad
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
✍️ये जरुरी नहीं✍️
"अशांत" शेखर
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
Loading...