Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2022 · 1 min read

उलझनें_जिन्दगी की

उलझनें_जिन्दगी की
(सुशांत सिंह राजपूत)
~~°~~°~~°
जहां की खुशियाँ चुराने चले थे ,
मगर आँखों ने छल किया ।
सुधा की खोज में निकले थे चाँद तक,
मगर हलाहल ही मिला।

खुशबू फैला था जो चहुंओर ,
वो सांसों को पसंद नहीं ।
नजरों को पसंद था जो ,
उसे दिल ने इन्कार किया ।

मोहब्बत निभाने को अब,
फरिश्ते उतरते हैं धरती पर कहाँ।
गुनहगार किसको कहे ,
गुनाह तो करते हैं सब यहाँ ।

उलझनें बढ़ती गई दिन-ब-दिन ,
चैन-ए-सुकून था भी कहाँ ।
जो अपने थे दिल में कभी ,
अब लगते थे,पराये वो यहाँ ।

उल्फत के तराने गाते रहे यूँ जीवन भर ,
मगर अल्फाज खामोश ही रहे ।
गमों को भुलाने की कोशिश की तो ,
अरमां सुलगते ही रहे ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १८ /०६ /२०२२
आषाढ़, कृष्ण पक्ष,पंचमी ,शनिवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 6 Comments · 447 Views
You may also like:
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
श्राप महामानव दिए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
1971 में आरंभ हुई थी अनूठी त्रैमासिक पत्रिका "शिक्षा और...
Ravi Prakash
मेरी मर्ज़ी पे हक़ नहीं मेरा
Dr fauzia Naseem shad
सदियों की गुलामी
Shekhar Chandra Mitra
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
त्याग
मनोज कर्ण
बेटी से मुस्कान है...
जगदीश लववंशी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
कविराज
Buddha Prakash
ग़ज़ल
kamal purohit
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
तुममें हममें कुछ तो मुख्तलिफ बातें हैं।
Taj Mohammad
“फेसबूक के सेलेब्रिटी”
DrLakshman Jha Parimal
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
एक पत्नि की पाती पति के नाम
Ram Krishan Rastogi
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
ये चिड़िया
Anamika Singh
चार वीर सिपाही
अनूप अंबर
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
✍️जिगर को सी लिया...!
'अशांत' शेखर
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Loading...