Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#20 Trending Author
Aug 4, 2022 · 1 min read

उम्मीद

लोग दूसरों से इतनी उम्मीद बांध लेते हैं
कि अच्छा भला रिश्ता भी आखिर में
उम्मीदों की भेट चढ़ ही जाता है लोग
भूल जाते हैं कि उम्मीदें हमें हमेशा
दूसरों से नहीं खुद से करनी चाहिए ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

3 Likes · 36 Views
You may also like:
त'अल्लुक खुद से
Dr fauzia Naseem shad
✍️हलाल✍️
'अशांत' शेखर
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️भोंगे✍️✍️
'अशांत' शेखर
उनका लिखा कलाम सा लगता है।
Taj Mohammad
योगा
Utsav Kumar Aarya
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️याद✍️✍️
'अशांत' शेखर
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
शब्दों से परे
Mahendra Rai
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
पिता
Saraswati Bajpai
शंकर छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...