Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author
Apr 14, 2022 · 1 min read

उम्मीद से भरा

छोटे छोटे सपने मेरे,
पलकों में अब ठहरने लगे,
उम्मीदों का दामन थाम कर,
हकीकत में जीने लगे।_ डॉ. सीमा कुमारी ,बिहार, भागलपुर
दिनांक-12-4-022की मौलिक एवं स्वरचित
रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

3 Likes · 2 Comments · 105 Views
You may also like:
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
The Magical Darkness
Manisha Manjari
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
Ranjeet Kumar
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
Loading...