Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 30, 2017 · 1 min read

उपेक्षा

उपेक्षा

अनदेखी,अनवेक्षा,अवज्ञा,सब हैं,उपेक्षा कीसहेली लेकिन बारीक सा फर्क लिए अपेक्षा लगती इसकी भाएली।

अवहेलना,अविनय,उदासीनता देती हृदय को दर्द है
वहीं अपेक्षा दूसरों से,करती हर पल क्षण को सुखद है।

नज़रंदाज़ी,निरपेक्षा,बेक़द्री,यदि तुम दूसरों की करते हो
फिर दूसरों से भला सुनों,क्यों तुम अपेक्षा रखते हो।

नीलम शर्मा

271 Views
You may also like:
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पापा
सेजल गोस्वामी
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
यादें
kausikigupta315
दया करो भगवान
Buddha Prakash
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पिता
Meenakshi Nagar
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
Loading...