Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-342💐

उन्होंने हमसे मकाँ की पेशकश की थी,
शायद दिल का मकाँ कम पड़ गया था,
अभी हाल में बे-एतिबार भी कह दिए वो,
ज़िंदगी ठहरी है यह दिल भी ठहर गया था।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
41 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खामोशी की आहट
खामोशी की आहट
Buddha Prakash
*जिजीविषा  (कुंडलिया)*
*जिजीविषा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
मुहब्बत की बातें।
मुहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
श्री रमण 'श्रीपद्'
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
कवि दीपक बवेजा
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
𝖎 𝖑𝖔𝖛𝖊 𝖚✍️
𝖎 𝖑𝖔𝖛𝖊 𝖚✍️
bhandari lokesh
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अमृता
अमृता
Surinder blackpen
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
💐अज्ञात के प्रति-57💐
💐अज्ञात के प्रति-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
एक पते की बात
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
Manisha Manjari
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
Loading...