Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-371💐

उन्हें हारने को ज़िंदगी हारना नहीं कहते,
ख़ुद को सँवारने को सँवारना नहीं कहते,
तबज्जो दो उसे जो दिल में बैठा है,सुनो,
जो दिल में समाया है उसे निकालना नहीं कहते।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
40 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
Jay Dewangan
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त से पहले
वक्त से पहले
Satish Srijan
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
दोस्ती
दोस्ती
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
💐अज्ञात के प्रति-120💐
💐अज्ञात के प्रति-120💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फहराये तिरंगा ।
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
"मित्र से वार्ता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जाड़े की दस्तक को सुनकर
जाड़े की दस्तक को सुनकर
Dr Archana Gupta
पुलवामा शहीद दिवस
पुलवामा शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
रात एक खिड़की है
रात एक खिड़की है
Surinder blackpen
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
मृत्यु
मृत्यु
अमित कुमार
औकात
औकात
साहित्य गौरव
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
एक
एक "स्वाभिमानी" को
*Author प्रणय प्रभात*
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
Ravi Prakash
निश्चल छंद और विधाएँ
निश्चल छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
Loading...