Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-318💐

उन्हें वास्ते ढूँढने के सितारों से कहा,
चाँदनी से भी कहा चन्दा से भी कहा,
ख़ैरियत से,ज़रूर वो मेरे क़ल्ब में होंगें,
आशनाई से लेकर रिहाई से भी कहा।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
32 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
इश्क में  हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
इश्क में हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बन नेक बन्दे रब के
बन नेक बन्दे रब के
Satish Srijan
गीतिका।
गीतिका।
Pankaj sharma Tarun
तुम
तुम
Er Sanjay Shrivastava
सफर में महोब्बत
सफर में महोब्बत
Anil chobisa
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
💐प्रेम कौतुक-435💐
💐प्रेम कौतुक-435💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
Surinder blackpen
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
Ravi Prakash
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना ,  किसी को नुकसान पह
किसी को नीचा दिखाना , किसी पर हावी होना , किसी को नुकसान पह
Seema Verma
#शुभरात्रि
#शुभरात्रि
आर.एस. 'प्रीतम'
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नंदक वन में
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Sakshi Tripathi
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
"रंग भरी शाम"
Dr. Kishan tandon kranti
यकीं मुझको नहीं
यकीं मुझको नहीं
Ranjana Verma
'पिता'
'पिता'
पंकज कुमार कर्ण
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
Loading...