Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-443💐

उन्हें मेरी बात पर बे-एतिबार था,
हमें उनकी बात पर यूँ एतिबार था,
ज़िंदगी की दास्ताँ सबकी ऐसी ही है,
तसल्ली है किसी को हम पर बे-एतिबार था।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਧੱਕੇ
ਧੱਕੇ
Surinder blackpen
वक्त बनाये, वक्त ही,  फोड़े है,  तकदीर
वक्त बनाये, वक्त ही, फोड़े है, तकदीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिना तुम्हारे
बिना तुम्हारे
Shyam Sundar Subramanian
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेशवर प्रसाद तरुण
हालात और मुकद्दर का
हालात और मुकद्दर का
Dr fauzia Naseem shad
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
महफ़िल में गीत नहीं गाता
महफ़िल में गीत नहीं गाता
Satish Srijan
आ अब लौट चलें
आ अब लौट चलें
Dr. Rajiv
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
💐प्रेम कौतुक-508💐
💐प्रेम कौतुक-508💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
निगल रही
निगल रही
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
खुदगर्ज दुनियाँ मे
खुदगर्ज दुनियाँ मे
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
Shashi kala vyas
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
"छ.ग. पर्यटन महिमा"
Dr. Kishan tandon kranti
पूजा नहीं, सम्मान दें!
पूजा नहीं, सम्मान दें!
Shekhar Chandra Mitra
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िंदगी की कड़वाहट से ज़्यादा तल्ख़ी कोई दूसरी नहीं। आदत डाल ली
ज़िंदगी की कड़वाहट से ज़्यादा तल्ख़ी कोई दूसरी नहीं। आदत डाल ली
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...