Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-66💐

उन्हें देखा तो मैं फिसला नहीं था,
हाँ मेरा दिल जरूर ढह गया था।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्दी का मौसम
सर्दी का मौसम
Ram Krishan Rastogi
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
उन शहीदों की कहानी
उन शहीदों की कहानी
gurudeenverma198
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
#प्रसंगवश😢
#प्रसंगवश😢
*Author प्रणय प्रभात*
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
सुन मेरे बच्चे !............
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
"हस्ताक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हायकू
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
Who is CEO and Owner of Param Himalaya ? - Pranav Kumar Tyagi
Who is CEO and Owner of Param Himalaya ? - Pranav Kumar Tyagi
Param Himalaya
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिता अब बुढाने लगे है
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
बीड़ी की बास
बीड़ी की बास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देवदासी प्रथा का अंत कब होगा?
देवदासी प्रथा का अंत कब होगा?
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-287💐
💐प्रेम कौतुक-287💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...