Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author
Apr 5, 2022 · 1 min read

उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये

क्षणभंगुर् सी ये जिंदगी अपनी, नित्य नवीन चलचित्र दिखाये।
कल सोये थे जिस आँचल में, उसे आज वृद्धाश्रम छोड़ आये।
नये कोपलों के खिलने पे, एक वक्त जो थे मुस्कुराये।
हँसी छीन कर उन होंठों की, घर से बाहर की उन्हें राह दिखाये।
सवार रहते थे उनके कंधों पे, उन्होंने हीं थे शहर-बाजार घुमाये।
लेकर सबकुछ आज उन्हीं का, उन्हीं को सारे हक़ गिनवाये।
नींद त्यागते थे वो रातों में, कि कहीं ज्वर ना दोहरा जाये।
थकी हुई उन आँखों की लिए, शेष कोई खाट बच ना पाये।
तिनका-तिनका जोड़ उन्होंने, हमारे सारे अरमान पुराये।
उम्र के इस अंतिम पड़ाव में, उन्हें हीं तिनकों में हम बिखेर आये।
भरी होती थी हमारी थाली, आधी थाल में भी वो इतराये।
आज उन्हें हीं खिलाने को, हमारे राशन कम पड़ जाये।
अश्रु देख हमारी आँखों की, सैदव जो सबसे लड़ जायें।
कलह ना कर तू मेरे घर में, ये कह कर, उन्हें अजनबियों में छोड़ आये।

1 Like · 4 Comments · 163 Views
You may also like:
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
पिता
Santoshi devi
पिता का दर्द
Nitu Sah
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
Loading...