Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-160💐

उनमें मज़ा क्या है?मेरी रज़ा क्या है?
उनमें सजा क्या है?मेरी सज़ा क्या है?
©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिन्दी दोहा -भेद
हिन्दी दोहा -भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
आपकी इस मासूमियत पर
आपकी इस मासूमियत पर
gurudeenverma198
तेरे होकर भी।
तेरे होकर भी।
Taj Mohammad
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
भ्रम का जाल
भ्रम का जाल
नन्दलाल सुथार "राही"
अब हो ना हो
अब हो ना हो
Sidhant Sharma
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हवा में हाथ
हवा में हाथ
रोहताश वर्मा मुसाफिर
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"प्यासा कुआँ"
Dr. Kishan tandon kranti
💐Prodigy Love-1💐
💐Prodigy Love-1💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
Ravi Ghayal
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*
*"काँच की चूड़ियाँ"* *रक्षाबन्धन* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
श्याम सिंह बिष्ट
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
ज़ईफ़ी में ग़रचे दिमाग़ी तवाज़ुन, सलामत रहे तो समझ लीजिएगा।
*Author प्रणय प्रभात*
2229.
2229.
Dr.Khedu Bharti
कहीं भी जाइए
कहीं भी जाइए
Ranjana Verma
Loading...