Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-166💐

उनके अलावा कोई देखा नहीं है।
फिर कैसे कहे कि एतिबार नहीं है।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
✍️क़हर✍️
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
आनंद में सरगम..
आनंद में सरगम..
Vijay kumar Pandey
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
💐Prodigy Love-12💐
💐Prodigy Love-12💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
👺 अजब_ग़ज़ब :--
👺 अजब_ग़ज़ब :--
*Author प्रणय प्रभात*
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
बाल कहानी- प्यारे चाचा
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
याद पर लिखे अशआर
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
सृजन कर्ता है पिता।
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
बिमल तिवारी आत्मबोध
पुराना है
पुराना है
AJAY PRASAD
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जातियों का विनाश
जातियों का विनाश
Shekhar Chandra Mitra
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
कहीं भी जाइए
कहीं भी जाइए
Ranjana Verma
दुआओं की नौका...
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
Loading...