Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-372💐

उनके अक़्ल की बानगी बे-एतिबार से मिली,
उन्हें देखकर दिल को ताज़गी बार बार मिली,
यह तस्वीर क्या है,दिल में जो बैठा है उसे सुनो,
उनकी याद की बानगी,दिन में हज़ार बार मिली।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
65 Views
You may also like:
ज़िंदगी में बेहतर
ज़िंदगी में बेहतर
Dr fauzia Naseem shad
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
DEVESH KUMAR PANDEY
■ धर्म चिंतन...【समरसता】
■ धर्म चिंतन...【समरसता】
*Author प्रणय प्रभात*
भोजपुरीया Rap (2)
भोजपुरीया Rap (2)
Nishant prakhar
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
*बड़ा आदमी बनना है तो, कर प्यारे घोटाला (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*बड़ा आदमी बनना है तो, कर प्यारे घोटाला (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
आईना प्यार का क्यों देखते हो
आईना प्यार का क्यों देखते हो
Vivek Pandey
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
सांप्रदायिक उन्माद
सांप्रदायिक उन्माद
Shekhar Chandra Mitra
परछाइयों के शहर में
परछाइयों के शहर में
Surinder blackpen
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तारों का झूमर
तारों का झूमर
seema varma
1 jan 2023
1 jan 2023
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम की राह पर-75💐
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पौष की सर्दी/
पौष की सर्दी/
जगदीश शर्मा सहज
तूफां से लड़ता वही
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हो नये इस वर्ष
हो नये इस वर्ष
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मीलों का सफर तय किया है हमने
मीलों का सफर तय किया है हमने
कवि दीपक बवेजा
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
जो बनना चाहते हो
जो बनना चाहते हो
dks.lhp
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
Rohit Kaushik
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
Loading...