Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2022 · 1 min read

उनकी यादें

विचलित कर देती है,उनकी यादें कभी मुझको।
नींद उड़ा ले जाती है,सोने नहीं देती है मुझको।।

पता नहीं लग पाता है,कहां ले जाती है मुझको।
करवटें बदलती हूं बस सलवटे दिखती मुझको।।

शाम से ही आने लगती है उनकी यादें मुझको।
खोलने द्वार जाती हूं,जब आहट होती मुझको।।

कब यादों का मिलन होगा पता नहीं मुझको।
अगर मिलन नहीं हुआ तो दुख होगा मुझको।।

दिल मसोस कर रह जाती हूं जब यादे आती मुझको।
कैसे समझाऊं इस दिल को बताओ तो कोई मुझको।।

उनकी यादें रहेगी जब तक वे रुलाएगी मुझको।
सबर का बांध टूट रहा कोई दिलासा दे मुझको।।

घिरती है घनघोर घटाएं उनकी यादें सताती हैं मुझको।
सावन के महीने में यादे झकझोर कर देती हैं मुझको।।

लिखता है रस्तोगी किसी की यादों को कलम से।
वह भी डूब जाता है,किसी की यादों में धरम से।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम
9971006425

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 15 Comments · 260 Views
You may also like:
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
तेरी याद
Umender kumar
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
विजय कुमार 'विजय'
बरसो घन घनघोर, प्रीत को दे तू भीगन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काश
Harshvardhan "आवारा"
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
“फेसबूक के सेलेब्रिटी”
DrLakshman Jha Parimal
कोई नई ना बात है।
Dushyant Kumar
नव गीत
Sushila Joshi
तीर ए नज़र से।
Taj Mohammad
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"उलझी हुई जिन्दगानी"
MSW Sunil SainiCENA
हमारा हरियाणा प्रदेश
Ram Krishan Rastogi
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
मंदिर का पत्थर
Deepak Kohli
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
Shekhar Chandra Mitra
अपनापन
shabina. Naaz
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️आग तो आग है✍️
'अशांत' शेखर
शून्य की महिमा
मनोज कर्ण
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
Loading...