Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-399💐

उनका सोचना है कि इरादे निबाहने पर ही मिलेंगे,
यह सब अफ़साना ही रहेगा,वो बताएँ कैसे मिलेंगे,
अफ़सोस न करो,कोई जग़ह पाकीज़ा ख़ुद तय करो,
वो ही नहीं बताएँगे दिल से,तो हम कैसे मिलेंगे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#मेरी दोस्त खास है
#मेरी दोस्त खास है
Seema 'Tu hai na'
कौन थाम लेता है ?
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
एक टूटा हुआ व्यक्ति
एक टूटा हुआ व्यक्ति
राकेश कुमार राठौर
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
संस्कार संयुक्त परिवार के
संस्कार संयुक्त परिवार के
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
💐प्रेम कौतुक-273💐
💐प्रेम कौतुक-273💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ एकाकी जीवन
■ एकाकी जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️आज के युवा ✍️
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
पुराने गली-मुहल्ले (कुंडलिया)
पुराने गली-मुहल्ले (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
भूल कैसे हमें
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
अब हार भी हारेगा।
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
Loading...