Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

उधेड़बुन

मन में चलते विचारो से,
कभी कभी हूँ सहम सा जाता।
ख़ामोशी की चादर तले,
बात करने से हैं कतराता।।
ग़र पूछ ले कोई हाल मेरा,
झूठी मुस्कान दिखा बच कर निकल जाता।।
मैं नित नए नए लोगो से मिलता,
पर उनके मन को पढ़ ना पाता।
क्यूंकि हर कोई सदा मुझसे,
अपने मतलब का ही सौदा कर जाता।
और पीछे झूठी मुस्कान,
संग विदा हो जाता।।
क्या कोई अपना और क्या पराया,
अपने मन की बात किसी को बता ना पाया।
ईश्वर ने ना जाने कैसा खेल रचाया,
मैंने खुद को सदा एक जाल में उलझा पाया,
पर इस झूठी मुस्कान के,
जाल से बाहर का रास्ता खोज ना पाया।।
कैसे सुलझा लूँ ,
ना हैं कोई ऐसी युक्ति।
इसलिए कर लेता हूँ मैं,
कभी कभी शब्दों से अभिव्यक्ति।
लिखने से मन को आता हैं थोड़ा सुकून,
पर ये तो हैं जस की तक मेरी उधेड़बुन ।।

डॉ. महेश कुमावत

Language: Hindi
1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं........ लिखता हूँ..!!
मैं........ लिखता हूँ..!!
Ravi Betulwala
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
surenderpal vaidya
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
रिश्तों की रिक्तता
रिश्तों की रिक्तता
पूर्वार्थ
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
*प्रणय प्रभात*
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरा हर राज़ खोल सकता है
मेरा हर राज़ खोल सकता है
Shweta Soni
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
"आत्मावलोकन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...