Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

उत्साह

तुम्हारा उत्साह
जैसे तम के वक्ष पर
प्रकाश की एक किरण
वियावान जंगल में कुलांच भरता एक
हिरण
उदासी को चीरता एक तीर
जेठ की दुपहरी पर ज्यों
बादलों की अमृत धार
क्या नाम दूँ उसे/जो मुर्दों के लिए
संजीवन बूटी है
और बुजुर्गों की दुआ की तरह
प्रभावकारी भी
सुप्त प्राणों में भरता प्राण
असहायों को मिलता त्राण
आश्यकता है/बचा कर रखने की
जो भविष्य का संबल बने
नई पीढ़ी के लिए मार्गदर्शक
हताशा निराशा के लिए दीप
उनके लिए उत्साह, ही तो सहारा है
किनारा भी है और मंजिल का
दीप भी

256 Views
You may also like:
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
झूला सजा दो
Buddha Prakash
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें
kausikigupta315
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Santoshi devi
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...