Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-26💐

उत्साही यदि अधिक धैर्यवान है तो परिस्थितियों का वातावरण भी देखे,विकल्प में,अपना अन्य एक मार्ग और बनाए, अन्यथा परिणाम में अधिक धैर्य भी वेदना ही देगा।
-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मां
मां
goutam shaw
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Sakshi Tripathi
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
पिता
पिता
Mamta Rani
अकेले-अकेले
अकेले-अकेले
Rashmi Sanjay
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
'अशांत' शेखर
ओस की बूँदें - नज़्म
ओस की बूँदें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मैंने  देखा  ख्वाब में  दूर  से  एक  चांद  निकलता  हुआ
मैंने देखा ख्वाब में दूर से एक चांद निकलता हुआ
shabina. Naaz
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
धर्मग्रंथों की समीक्षा
धर्मग्रंथों की समीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
चिता की अग्नि ने।
चिता की अग्नि ने।
Taj Mohammad
मत समझना....
मत समझना....
Seema 'Tu hai na'
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility, and
Manisha Manjari
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
मौसम बेईमान है आजकल
मौसम बेईमान है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
Ravi Prakash
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
Loading...