Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 4, 2016 · 1 min read

उतर जाते है

उतर जाते हो

जब कलम बन कागज पर
उतर जाते हो
प्रणय का एक पैगाम मुझे
दे रहे होते हो ।
होठ कहते कहते अनायास
रूक जाते है
मुस्कराता चेहरा भेद सब
खोल जाता है।

73 Likes · 208 Views
You may also like:
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
When I missed you.
Taj Mohammad
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
आजमाइशें।
Taj Mohammad
Loading...