Sep 26, 2016 · 1 min read

उठो, थाम लो चक्र सुदर्शन

उठो, थाम लो चक्र सुदर्शन
माँ के भींगे आँचल का है,
मोदी तुझसे एक निवेदन।
उठो, थाम लो चक्र सुदर्शन।
चाँद निबेदन करता तुझसे,
दूर करो नापाक निशानी।
पाक का झंडा रोकर कहता,
व्देश है मेरा अभिमानी।
लहराती तलवार से इसकी,
खंडित कर दो तुम गर्दन।
मोदी तुझसे एक निबेदन।
उठो, थाम लो चक्र सुदर्शन।
भीख मांगता लिए कटोरी,
अस्मत की परवाह कहाँ,
फिर भी भारत से गद्दारी,
भौंक रहा कश्मीर जहाँ।
कान उमेठो इस दुश्मन का,
धुल छत दो इसको हर क्षण।
मोदी तुझसे एक निबेदन।
भारत माँ की यह पुकार है,
खून से माथे तिलक लगा लो।
हिम्मत की हुंकार भरो तुम,
रना का तुम शौर्य जग लो।
विश्व धुरंधर परम् लाड़ले,
दुश्मन का कर दो मर्दन।
मोदी तुझसे एक निबेदन,
उठो, थाम लो चक्र सुदर्शन।

संत कुमार मिश्र

1 Comment · 166 Views
You may also like:
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
राम राज्य
Shriyansh Gupta
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
अप्सरा
Nafa writer
सूरज काका
Dr Archana Gupta
Loading...