Sep 3, 2016 · 1 min read

ईश्वर

ईश्वर है
आस्था है विश्वास है
पर कहाँ कब है
नहीं पता है

ईश्वर है
मंदिर में,मस्जिद में
काबा,कैलाश में
घट घट कुम्भ में

ईश्वर है
तीर्थंकरों ने ढूढा
योगियों ने योगा
पर ना मिला

ईश्वर है
मथुरा काशी प्रयाग
हरिद्वार सब खोजा
पर ना मिला

ईश्वर है
जन जन के अन्तस में
कण कण क्षण क्षण में
उदय होते सूरज चाँद में

ईश्वर है
हल जोतते खेतों
मुस्कराते फूलों मे
भँवरा जहाँ कलियों में

ईश्वर है
बुजुर्गों की सेवा में
मात पिता की सेवा में
पिया की आन में

ईश्वर है
देखना है ईश्वर
बुजुर्ग मातपित पिय
की सीख सीख लें

72 Likes · 229 Views
You may also like:
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम मेरी हो...
Sapna K S
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
उस दिन
Alok Saxena
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मां-बाप
Taj Mohammad
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
खेत
Buddha Prakash
हिरण
Buddha Prakash
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...