Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2022 · 1 min read

ईश्वरीय फरिश्ता पिता

पिता बच्चों के होते अरमान
इन्हें रहते कभी भी अर्भ को
न छू सकती मर्ज़, शिथिलता
पिता का ह्रदय होता मनोरम ।

पिता अपने बौद्धभिक्षुओं को
ले जाना चाहते ऊंचे शिखर पे
हमारे लिए वह करते रियाज़त
पिता होते अनाचार ही प्रज्ञावान् ।

पिता तो होते अत्यल्प अकाट्य
अन्याय के संगी जब बनते हम
वह हमें डांटकर पीटकर कैसे भी
लाते न्याय के पंथ पे सतत से ही ।

किंचित ऐसे भी पिता देखे हमने
जो दिनभर करके आते मजदूरी
अपने मुआहार बच्चों को खिलाते
ईश्वर का भेजा फरिश्ता होते पिता ।

जिसके पिता ना होते भव में
वो बेचारा याद करता है उन्हें
काश मेरे भी होते पृत परमेश्वर !
दुनिया की हर खुशी देते पिता ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

2 Likes · 2 Comments · 79 Views
You may also like:
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक बात है
Varun Singh Gautam
पिता
Dr.Priya Soni Khare
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
साँझ
Alok Saxena
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
प्यार
Satish Arya 6800
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
'अशांत' शेखर
फ़ौजी
Lohit Tamta
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक प्रश्न
Aditya Prakash
मिलन
Anamika Singh
जान से प्यारा तिरंगा
डॉ. शिव लहरी
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
कशमकश
Anamika Singh
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
ग़ज़ल
Anis Shah
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
करके शठ शठता चले
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
यादें
Anamika Singh
Loading...