Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 5, 2022 · 1 min read

ईद में खिलखिलाहट

ईद में चाँद सी खिलखिलाहट अपने पराए सबको दावत
हर गली मुहल्ले गुले गुलज़ार हो

पैगाम ए दोस्ती आ गले मिल जा
आज किशन के घर सभी का इफ़्तार हो.
शायर- किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

3 Likes · 2 Comments · 102 Views
You may also like:
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लड़ते रहो
Vivek Pandey
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Love never be painful
Buddha Prakash
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
*रामभक्त हनुमान (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
'खिदमत'
Godambari Negi
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी कभी।
Taj Mohammad
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr.Alpa Amin
जिंदगी का राज
Anamika Singh
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
*सावन आया (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...