Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

ईद मुबारक देता हूँ – कृष्ण मलिक अम्बाला

ईद के सुअवसर पर कुछ पंक्तियाँ ।
कवि कह रहा है —
“ईद मुबारक देता हूँ ”
भारत का हूँ मैं एक सिपाही
हिन्दू -मुस्लिम है सब मेरे भाई
हिन्दू हूँ बेशक , सभी को सम्मान देता हूँ
अपने धर्म के साथ, दूसरे से सीखें लेता हूँ
नहीं है दुश्मन हिन्दू मुस्लिम , क्यों व्यर्थ भड़कातें है
चार भाई ही तो है देश में , क्यों नही साथ रह पाते हैं
करता हूँ पुरे जग से आह्वान , बेशक हिन्दू बेशक मुसलमान
हिन्दू रहो बेशक , करो दूसरे धर्मों का भी सम्मान
अच्छाई बुराई सब धर्म में मिलेगी , कुछ राक्षसों का है परिणाम
नहीं तो सभी धर्म ही सुनाएँ , अमन चैन का पैगाम
एक ही डाली के हैं सब फूल
लड़ झग़ड़ने की न कर भूल
खुद भी हूँ हिन्दू , सभी हिंदुओं को कहता हूँ
क्यों नहीं रहते मिलकर तुम , यही अफ़सोस में रहता हूँ
हर धर्म में ज्ञान है अद्भुत , ले लो भाईयों जी भरकर
ज्ञान देने वाला नही है पूछता , दूसरे धर्म से हो तुम मगर
मुस्लिम भी है मेरे भाई , वफादारी धर्म की उनसे सीखो
तीस रोज देते कुर्बानी , आये अक्ल तो देकर देखो
जागो हिंदुओं जागो, अब तुम जाग ही जाओ
सभी धर्म के हैं अपने भाई , इनको तुम गले लगाओ
हमेशा से हमें एक बात गयी गई है सिखलाई
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई , आपस में सब भाई भाई
आज हिन्दू हो कर ओह रखवालों , पहल एक कर देता हूँ
तुम भी सभी को पहुँचाओ , ईद मुबारक देता हूँ
????????????
तुम भी सभी को पहुँचाओ , ईद मुबारक देता हूँ
©® KRISHAN MALIK 07.07.2016

Language: Hindi
Tag: कविता
429 Views
You may also like:
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta ( bloger) Gupta
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
'अशांत' शेखर
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
"पति परमेश्वर "
Dr Meenu Poonia
मोक्षदायिनी उज्जैयिनी जहां शिवमय है कण कण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बारिश आती (बाल कविता/ गीतिका)*
Ravi Prakash
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
आए आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अक्सर
Rashmi Sanjay
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
बे अदब कहोगे।
Taj Mohammad
सितारे बुलंद थे मेरे
shabina. Naaz
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
ऑन कर स्विच ज़िन्दगी का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बंधुआ लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चला साढ़ू भाई
Dhirendra Panchal
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्दे दिल
Anamika Singh
The flowing clouds
Buddha Prakash
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
'भारत माता'
Godambari Negi
Loading...