Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

ईंटों का ढांचा भी घर लगता है…।

सदियों सा सिर्फ एक पहर लगता है,
पानी सादा भी अब तो ज़हर लगता है।

आँखें भारी है कुछ नशे सा आलम है,
कल की ही नज़र का असर लगता है।

इस शहर में बेखुदी का आलम न पूछो,
अखबार भी अब यहाँ बेखबर लगता है ।

नज़रें गर अलग है तो नजरिया भी जुदा होगा,
महादेव भी किसी किसी को पत्थर लगता है।

शायद रास्ता गली का बस मेरी ही भुला है,
चक्कर तेरी गली में उसका अक्सर लगता है

ना जाने दरमियाँ क्यों ये फासला हुआ है,
तेरी ज़हानत को भी लग गयी, नज़र लगता है ।

ज़िन्दगी में मज़ाक कुछ बढ़ से गए है,
गमो से रिश्ते में शायद देवर लगता है।

रोककर जिसे भी पूछूँगा तेरे घर का पता,
वो गुमराह ही कर देगा ये डर लगता है।

डाक बक्से में कुछ गुमनाम ख़त आ रहे है,
कौन होगा ? ये अंदाज़ा रात भर लगता है।

पहुचते ही मिले जो मुस्कान बिटिया की
ढांचा वो ईंटो का बना, अब घर लगता है।

146 Views
You may also like:
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
भैया दूज (कुछ दोहे)
Ravi Prakash
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
वक्त लगता है
कवि दीपक बवेजा
हरी
Alok Vaid Azad
वर्षा
विजय कुमार 'विजय'
” REMINISCENCES OF A RED-LETTER DAY “
DrLakshman Jha Parimal
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
'अशांत' शेखर
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
फिजूल।
Taj Mohammad
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
क्योंकि, हिंदुस्तान हैं हम !
Palak Shreya
ग़म का साया
shabina. Naaz
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आज के जीवन की कुछ सच्चाईयां
Ram Krishan Rastogi
★ दिल्लगी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
स्तुति
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कैरेक्टर सर्टिफिकेट
Shekhar Chandra Mitra
शेर
Rajiv Vishal
स्वंग का डर
Sushil chauhan
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तलाश
Seema 'Tu hai na'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों ?
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
"सृष्टि की श्रृंखला"
Dr Meenu Poonia
Loading...