Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Dec 27, 2021 · 1 min read

इस शहर में

लौट आया हूं मैं अपने शहर में
बहुत कुछ बदल गया है इस शहर में

जाने-पहचाने थे पहले सब यहां
अब सब अनजाने से रहते है इस शहर में।

ताज़ी हवाऐं चलती थी यहां पहले कभी
अब कड़वी हवाऐं चलती है इस शहर में।

रौनक से भरा था यह शहर कभी
अब सन्नाटा पसरता है इस शहर में।

याद आए ऐसा कुछ नहीं बचा अब यहां
सब कुछ बदल गया है इस शहर में।

– श्रीयांश गुप्ता

3 Likes · 128 Views
You may also like:
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️शराब का पागलपन✍️
"अशांत" शेखर
मिसाइल मैन
Anamika Singh
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
डर
"अशांत" शेखर
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
✍️सियासत✍️
"अशांत" शेखर
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
पिता
Santoshi devi
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
अधुरा सपना
Anamika Singh
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...