Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 2 min read

इस प्यार को क्या नाम दूं ?

देख के मेरी कनौतियों की सफेदी नजर अंदाज करती है
मेरी खुशनुमा सी ज़िन्दगी मेरे साथ साथ चलती है
मेरे गालों पर पड़ती झाइयों की वो बड़ी फिक्र करती है
ज़माने से बेपरवाह मेरी ज़िन्दगी मुझे पसंद करती है
वो कहती है उसे मुछों वाले लोग बिलकुल पसंद नहीं है
मेरी सिंघमनुमा मूछों में उसे मेरी छवि अच्छी लगती है
देखती है मेरी बढ़ी हुई दाढ़ी और उसमे झांकती सफेदी
कहती है ज़िन्दगी ये मुई बिलकुल अच्छी नहीं लगती है
मैं जब भी उदास होता हूँ मेरी चाँद के उड़ते बाल देखकर
अच्छे तो लगते हो कहकर मेरी ज़िन्दगी मेरे साथ हंसती है
देखती है वो मुझे सोच में डूबा तो मुझे छेड़ती है मुस्कुरा के
कहती है ज़िन्दगी तुम्हारी उदासी मुझे बहुत उदास करती है
जब भी कहता हूँ उसको मैं तेरे लिए कुछ भी तो नहीं कर पाता
मेरी ज़िन्दगी कहती है तेरे साथ मुझे बहुत ख़ुशी मिलती है |
मुझसे लडती है झगडती है कभी कभी बात भी तो नहीं करती है
फिर भी मुझे पता है मेरी ज़िन्दगी मुझसे बहुत प्यार करती है
उसके पास शिकायतों का पुलिंदा है जो सम्हाला है उसने मन में
फिर भी मेरी ज़िन्दगी मुझसे कभी कोई शिकायत नहीं करती है
कभी कभी रोना चाहती है फूट फूटकर मेरे कांधो पर सर रखकर
मेरा मन दुखित न हो मेरी ज़िन्दगी अपने आँसू रोक कर रखती है
फरमाईशों की एक पोटली वो अपने दिल के कोने में छुपाये है
फिर भी मेरी ज़िन्दगी कभी मुझसे कोई फरमाइश नहीं करती है
विश्वास करती है वो मेरे प्रयासों पर कभी ऊँगली नहीं उठाती
एक दिन उसके सपने पूरे करूँगा मेरी ज़िन्दगी यकीन करती है

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 351 Views
You may also like:
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
क्षमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
मौन भी क्यों गलत ?
Saraswati Bajpai
डर लगता है
Shekhar Chandra Mitra
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
हाइकू (मैथिली)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आशियाना मेरा ढह गया
Seema 'Tu hai na'
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल कहूँ तो मैं असद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
बिना दीवारों दर के बने हमनें मकां देखें हैं।
Taj Mohammad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
*उर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कस्तूरी मृग
Ashish Kumar
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
✍️✍️ओढ✍️✍️
'अशांत' शेखर
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...