Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2021 · 1 min read

इस दुख की घड़ी में

जिन लोगों के
हालात
खुद ही इतने
बिगड़े हुए हैं
विचार हैं तंग और
सोच है नकारात्मक
वह भला
इस दुख की घड़ी में
मुझे क्या सम्भालेंगे
जब भी मुंह खोलेंगे
कुछ अपशब्द ही बोलेंगे या
झगड़ा फसाद ही करेंगे या
किसी का मनोबल ही गिरायेंगे
क्या अच्छा है गर
यह खामोश रहें और
इस तरह से तो
कम से कम
किसी की मदद करने का
प्रयास न करें।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

3 Likes · 1 Comment · 191 Views
You may also like:
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
सुनो ना
shabina. Naaz
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
दिल से निकली बात
shabina. Naaz
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
मेरे दिल
shabina. Naaz
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
गौरव है मेरा, बेटी मेरी
gurudeenverma198
✍️मनस्ताप✍️
'अशांत' शेखर
वक्त की कीमत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
मिलना , क्यों जरूरी है ?
Rakesh Bahanwal
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
असीम जिंदगी...
मनोज कर्ण
दौर ए हाजिर पर
shabina. Naaz
मेरे पापा।
Taj Mohammad
Loading...