Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2017 · 1 min read

इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ

छोड़ कर जग-द्वंद, मैं शुभ मुहब्बत गह हर्ष हूँ |
दिल गलाऊँ ,मोमबत्ती-सम जलूँ , आदर्श हूँ |
हिंद पावन औ सदा ही प्यारमय अतिशय सघन
इसी से सद् आत्मिक-आनंदमय आकर्ष हूँ|
…………………………………………….
बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 1 Comment · 333 Views
You may also like:
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
"मत कर तू पैसा पैसा"
Dr Meenu Poonia
जातिवाद का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"लेखक की मानसिकता "
DrLakshman Jha Parimal
✳️🌀मेरा इश्क़ ग़मगीन नहीं है🌀✳️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️गुनाह की सजा✍️
'अशांत' शेखर
*रठौंडा शिव मंदिर यात्रा*
Ravi Prakash
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
मेरी माँ
shabina. Naaz
शरद पूर्णिमा
अभिनव अदम्य
मेरी छवि
Anamika Singh
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
कृष्ण नामी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
# जिंदगी ......
Chinta netam " मन "
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Manisha Manjari
Loading...