Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2022 · 1 min read

इश्क

वह इश्क ही क्या है,
जो जिस्म और दिल तक
ठहर कर रह जाए।
इश्क तो उसे कहते हैं,
जो सारे जहां को भुलाकर ,
प्यार करने वालों कि
रूह तक पहुँच जाए।

अनामिका

Language: Hindi
Tag: कोटेशन
6 Likes · 4 Comments · 160 Views
You may also like:
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
तिरंगा चूमता नभ को...
अश्क चिरैयाकोटी
ज़रूरी थोड़ी है
A.R.Sahil
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
ढूंढना दिल उसी को
Dr fauzia Naseem shad
मन
शेख़ जाफ़र खान
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मायका
Anamika Singh
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मुक्तक व दोहा
अरविन्द व्यास
चेहरे पर कई चेहरे ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*किसकी रहती याद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️आग तो आग है✍️
'अशांत' शेखर
उसका हर झूठ सनद है, हद है
Anis Shah
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
चाय की चुस्की
श्री रमण 'श्रीपद्'
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदर्श पिता
Sahil
Loading...