Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2022 · 1 min read

इश्क कोई बुरी बात नहीं

जब इश्क होता है हमें
मैं से हम बन जाते हैं
अस्तित्व मिटता नहीं
हम पूर्ण हो जाते हैं

खोकर सबकुछ इश्क में
जो सुकून मिलता है
समझ जाते हैं सब
जब तेरा चेहरा खिलता है

जो भी है इश्क में
वही असल इंसान है
इश्क के बिना तो
ये जीवन वीरान है

इतना समझ लो
हो इश्क में तुम अगर
तुम पर होती है
कायनात की नज़र

इश्क कोई बुरी बात नहीं
डर किस बात का है तुम्हें
मिल अपने महबूब से बिंदास
कोई कुछ कहेगा नहीं तुम्हें

डर दुश्मन है इश्क का
होगा इश्क तो भाग जायेगा
कुछ नहीं रहेगा याद फिर
हरपल महबूब ही याद आएगा

बहुत खुशी देता है हमें ये तो
होने का अहसास इश्क का
देखकर खिला चेहरा दोस्तों का
मैं दीवाना हो गया हूं इश्क का।

Language: Hindi
9 Likes · 1 Comment · 299 Views
You may also like:
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
वो आज मिला है खुलकर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*करवाचौथ: कुछ शेर*
Ravi Prakash
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
याद आयो पहलड़ो जमानो "
Dr Meenu Poonia
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
स्वतंत्रता दिवस
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीता के स्वर (2) शरीर और आत्मा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
💐 एक अबोध बालक 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शुभ करवा चौथ
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वो भी क्या दिन थे
shabina. Naaz
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
Ram Krishan Rastogi
पूँछ रहा है घायल भारत
rkchaudhary2012
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
प्रवाह में रहो
Rashmi Sanjay
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
Loading...