Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

इश्क की खुशबू।

इश्क की खुशबू में महक रहे है।
मोहब्बत में हदों से गुज़र रहे है।।

चांदनी ए कमर भी उरूज पे है।
आशिक ए इश्क में बहक रहे है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

2 Likes · 2 Comments · 68 Views
You may also like:
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
माँ की याद
Meenakshi Nagar
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अरदास
Buddha Prakash
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Satpallm1978 Chauhan
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...