Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2022 · 1 min read

इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।

इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
दरबदर भटकते है खुद को बंजारा बना लिया है।।1।।

गर आशिकी है दिल मे तो डर कहां लगता है जी।
फांसी के तख्तों ताज पर खुद को चढ़ा लिया है।।2।।

जानें कब कर बैठे हम तुमसे मुहब्बत इतनी गहरी।
देख गमों के सागर में हमने खुद को डूबा दिया है।।3।।

इस इश्क ने सबको ही बे अकीदा किया हम पर।
सभी की निगाहों में हमनें खुद को गिरा दिया है।।4।।

वफाओं के बदले बेवफाई मिली है सनम की हमें।
मजधार में फंसी कश्ती है साहिल का ना पता है।।5।।

दो चार अल्फाज़ ही अदब के बोल दो तुम हमसे।
यूं हमको रिश्तों में क्यों इतना गैर बना लिया है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 8 Comments · 46 Views
You may also like:
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क
Anamika Singh
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...