Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Apr 11, 2022 · 1 min read

इश्क ए दास्तां को।

इश्क ए दास्तां को अल्फाज़ नही मिलते है।
ये दिल इतना टूटा है कि अब नहीं हंसते है।।1।।

जमाने को लगता है बेरूखे हम हो गए है।
बिन फूलों के गुलिस्तां अच्छे नहीं लगते है।।2।।

दिल ए तिशनगी बुझाने की बात करते हो।
यह बादल हमेशा सहरा मे नहीं बरसते है।।3।।

क्या करे इस दर्द ए दिल का जता देता है।
वर्ना हम अब किसी से कुछ नही कहते है।।4।।

तुमने हमेशा सवाल उठाया मेरे इश्क पर।
एक हम है कि चाहत में जवाब नही देते हैं।।5।।

तुमने छोड़ा साथ हमारा अमाल है तुम्हारा।
हश्र में खुदा हिसाब लेगा इंसा नही लेते है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

71 Views
You may also like:
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
मुक्तक
Ranjeet Kumar
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
महँगाई
आकाश महेशपुरी
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
सीख
Pakhi Jain
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
याद आते हैं।
Taj Mohammad
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
फास्ट फूड
Utsav Kumar Vats
Loading...