Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 15, 2022 · 1 min read

इश्क़ नहीं हम

इश्क का मारा हूँ
इश्क नहीं
न ही प्यार कभी
क्या है ये ?
सब सौंदर्य पर
सौंदर्य को पाने
आलिंगन के सपने
वदन को पाने
तृप्ति नहीं
फिर क्या मलाल है !

जानता हूँ मगर
सौंदर्य नहीं मुझमें
मगर सौंदर्य को ही
सदा खोजता हूँ मैं__
रहता मन में
पा लूँ मैं रम्बा हो
या मेनका
पर मिलता कहाँ
यह भोग तो
पाता कोई ओर ही !

महफ़िल देखता
कहूँ तो आदत है
बन गई है
गलत मत कहना मुझे
यह मैं नहीं
यौवन का हुँकार है
पर स्पर्श की अनुभूति नहीं
होती स्पर्श सिर्फ अचिन्त्य के
पर कुछ न स्वयं को उत्सर्ग
मधु के पान करने को
{ यह मधु मधुकर के नहीं
यह मत समझना, समझे
अपितु ये यौवन के पान }
मिलता उसी को अब
जिसे धन का है ताज
भूख के दुर्दिन है जिसे
उसे इसके बुखार नहीं
इश्क प्यार मोहब्बत के__
वो तो स्वयं फटेहाल है
किसे, क्यों, किस भोग विलास के !…

लेखक :- वरुण सिंह गौतम

2 Likes · 35 Views
You may also like:
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
पिता
Anis Shah
विसाले यार
Taj Mohammad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
✍️फासले थे✍️
'अशांत' शेखर
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साँझ ढल रही है
अमित नैथानी 'मिट्ठू' (अनभिज्ञ)
तपिश
SEEMA SHARMA
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
ये बारिश की बूंदें ऐसे मुझसे टकराईं हैं।
Manisha Manjari
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
** शरारत **
Dr.Alpa Amin
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
Loading...